स्नान से पहले भोजन क्यों नहीं करना चाहिए?

Deepak Kumar Saini B.E. (Civil) Vastu & Geopathy Expert

हिंदू धर्म के संस्कारों में स्नान से पूर्व भोजन निषिद्ध माना गया है।

स्नान के पश्चात पूजा-अर्चना करके भोजन करना ही हमारे हिंदू धर्म की परंपरा सदियों से चली आ रही है।

बिना नहाए भोजन का भोग भगवान को नहीं चढ़ा सकते हैं और भोग चढ़ाए बिना भोजन करना पाप के समान होता है।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण के अनुसार भोजन के पश्चात यदि हम स्नान करें तो हमारी पाचन-क्रिया धीमी हो जाती है।

शरीर पर पड़नेवाले पानी से हमारे शरीर पर कुछ ऐसे रसायन उत्पन्न होते हैं जिससे रक्त का प्रवाह और अच्छा होता है।

जब हम नहाते हैं तो हमारी त्वचा, हाथ और पैरों में रक्त का प्रवाह बहुत तेजी से होता है।

हमारी शरीर को पाचन क्रिया के लिए भोजन के बाद ज्यादा रक्त की आवश्यकता होती है।

अगर हम भोजन से पहले नाहा लें तो जो रक्त का प्रवाह हमारी पाचन क्रिया को चाहिए होता है उसकी पूर्ति नहीं हो पाती हैं जिससे हमें पाचन से जुड़ी समस्याएँ होती हैं।

हमारे हिंदू धर्म के पूर्वजों ने इसलिए धर्म के नाम पर भोजन के पश्चात नहाना निषिद्ध बताया है।

भारतीय महिलाएँ नाक में छेद क्यों करती हैं?