शिव मंदिर में 3 बार ताली क्यों बजाई जाती है?

दोस्तों आपने कभी न कभी ज़रूर देखा होगा कि लोग भगवान शिव जी की पूजा करते समय 3 बार ताली बजाते हैं क्या आप जानते हैं इसके पीछे कारण क्या है।

3 बार ताल

3 बार ताल

भगवान शिव जी की पूजा के दौरान 3 बार ताली बजाने के पीछे एक बहुत ही प्रचलित कथा है चलिए जानते है सबसे पहले वो कथा क्या है?

प्रचलित कथा

प्रचलित कथा

भगवान श्री राम जी और उनकी समस्त सेना जब सेतु बाँधने के लिए कार्य कर रहे थे तो उस दौरान भगवान श्री राम जी ने भगवान शिव जी की पूजा की थी।

शिव की पूजा

शिव की पूजा

भगवान श्री राम जी द्वारा भगवान शिव जी की पूजा करते हुए भगवान श्री राम जी ने शिवलिंग के समक्ष 3 बार ताली बजाई थी।

शिवलिंग के समक्ष

शिवलिंग के समक्ष

राम जी द्वारा शिवलिंग के समक्ष 3 बार ताली बजाने के पश्चात राम जी को यह आभास हुआ कि उनके नाम को पत्थरों पर लिख कर समुद्र में छोड़ दें पत्थर अवश्य तैरेंगे।

राम जी को आभास

राम जी को आभास

हिंदू मान्यताओं के अनुसार पहली ताली बजाने का मतलब है भगवान शिव जी के समक्ष अपनी उपस्थिति बताना।

पहली ताली

हिंदू मान्यताओं के मुताबिक दूसरी ताली बजाने का मतलब है कि भगवान शिव जी से कुछ न माँगें तो भी भगवान शिव जी हमारे घर में हमेशा भंडार भरें।

दूसरी ताली

दूसरी ताली

हिंदू मान्यताओं के तहत तीसरी ताली बजाने का मतलब है कि भगवान शिव जी के समक्ष संपूर्ण शरणागति प्राप्त करने के लिए।

तीसरी ताली

तीसरी ताली

मंदिर में से आते वक़्त घंटी बजानी चाहिए या नहीं?