Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

पोंगल का त्यौहार क्यों मनाया जाता है?

पोंगल भारत में एक महत्वपूर्ण फसलों का त्यौहार है जो मुख्य रूप से रबी फसलों के सफल संरक्षण की खुशी में मनाया जाता है।

फसल का त्यौहार

फसल का त्यौहार

पोंगल का उत्सव सूर्य देवता की पूजा के रूप में भी मनाया जाता है जो फसलों की उच्च गुणवत्ता और समृद्धि के लिए आशीर्वाद देते हैं।

सूर्य पूजा

पोंगल से संबंधित परम्पराएँ धान की खेती को बनाए रखने का एक तरीका है जो इसे समृद्धि और विकास के साथ जोड़ता है।

धान की खेती का समर्थन

पोंगल का त्यौहार एक परिवार का महत्वपूर्ण हिस्सा है जहाँ परिवार के सभी सदस्य मिलकर समृद्धि और खुशियों का आभास करते हैं।

परिवार समर्पण

परिवार समर्पण

पोंगल के त्यौहार के दौरान पारंपरिक भोजन और पहनावे को महत्वपूर्ण रूप से मान्यता मिलती है जिससे स्थानीय सांस्कृतिक विरासत का समर्थन होता है।

पारंपरिक वस्तुएँ

पारंपरिक वस्तुएँ

पोंगल का त्यौहार एक ऐसा अवसर है जब मृत परिवार के सदस्यों की यादें ताजगी के साथ आती हैं और उनकी आत्मा को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

परिवार की याद

पोंगल भूमि, आकाश और प्राकृतिक सौंदर्य की महत्वपूर्णता को बढ़ावा देता है और लोगों को प्रकृति के साथ मिलकर जीने की प्रेरणा देता है।

प्राकृतिक सौंदर्य

पोंगल के उत्सव में लोग विभिन्न रंगों, संगीत और नृत्यों के साथ आनंद उठाते हैं जिससे समृद्धि और उत्साह का माहौल बना रहता है।

विशेष रंगारंग

मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ने के लाभ