Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

व्रत खंडित कब होता है?

दोस्तों आज हम आपको यह बताएँगे कि किसी भी प्रकार का व्रत रखते है तो वह व्रत क्या काम करने से खंडित हो जाता है।

व्रत खंडित का कारण

व्रत खंडित का कारण

हिंदू मान्यताओं के अनुसार व्रत में दिन में सोने से व्रत खंडित माना जाता है।

दिन में सोने से

दिन में सोने से

ऐसा कहा जाता है कि व्रत में किसी भी टूथपेस्ट से ब्रश करने से व्रत खंडित हो जाता है।

दंतमंजन

दंतमंजन

लोक कथाओं के मुताबिक व्रत में बार-बार शौच जाने से भी रखा गया व्रत खंडित हो जाता है।

शौच जाने से

पौराणिक कथाओं के तहत व्रत में बार-बार कुछ न कुछ खाते रहने से व्रत खंडित होता है।

कुछ खाते रहने से

व्रत में किसी की बुराई, निंदा, कोसना, चुगली, झूठ और गालियाँ देने से भी व्रत खंडित माना जाता है।

बुराई या अन्य कार्यों से

व्रत में दोष-दर्शन या संभोग करने से भी व्रत खंडित हो जाता है।

संभोग करने से

संभोग करने से

हमारे द्वारा दी गई यह जानकारियाँ सत्य है जिनका प्रमाण आपको हमारे ग्रंथों, शास्त्रों और कथाओं में देखने को मिल सकता है।

नोट

नोट

फुलेरा दूज क्या है?