रंगपंचमी क्या है?

वैदिक पंचांग के मुताबिक चैत्र माह की कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि के दिन रंगपंचमी के त्यौहार मनाया जाएगा।

वैदिक पंचांग

वैदिक पंचांग

अंग्रेजी पंचांग के अनुसार 30 मार्च 2024 शनिवार के दिन रंगपंचमी का त्यौहार मनाया जाएगा।

अंग्रेजी पंचांग

अंग्रेजी पंचांग

रंगपंचमी के दिन गाँव-गाँव मे पकवान बनाए जाते हैं तथा खूब धूमधाम से रंगपंचमी के त्यौहार को मनाया जाता है क्योंकि रंगपंचमी का यह पर्व होली के पांचवें दिन तक मनाया जाता है।

रंगपंचमी

रंगपंचमी

वर्तमान में भारत के कुछ राज्यों जैसे कि छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान में रंगपंचमी का त्यौहार आज भी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

भारत के विभिन्न क्षेत्र

रंगपंचमी के दिन सिर्फ सूखे गुलाल से ही होली खेली जाती है जिसमें विभिन्न प्रकार के रंगों के गुलाल को लोग एक दूसरे पर लगाकर रंगपंचमी का त्यौहार मनाते हैं।

सूखे गुलाल की होली

हिंदू मान्यताओं के तहत रंगपंचमी वाले दिन शादी या सगाई के लिए मुहूर्त निकालना या निश्चित करना अत्यंत ही शुभ माना जाता है।

मान्यताएँ

प्राचीन काल में जब होली का पर्व कई दिनों तक मनाया जाता था तब रंगपंचमी होली का अंतिम दिन होता था तथा उसके बाद कोई रंग नहीं खेलता था।

प्राचीन काल

प्राचीन काल

क्यों पढ़नी चाहिए हनुमान चालीसा?