Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

विजया एकादशी के व्रत के लाभ

हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन माह की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को विजया एकादशी का व्रत रखा जाता है।

हिंदू पंचांग

हिंदू पंचांग

ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक 6 मार्च 2024 बुधवार के दिन विजया एकादशी का व्रत रखा जाएगा।

ग्रेगोरियन कैलेंडर

ग्रेगोरियन कैलेंडर

विजया एकादशी का व्रत रखने से इसके नामानुसार व्रती को हरेक क्षेत्र में विजय प्राप्त होती है।

उद्देश्य

उद्देश्य

भयंकर शत्रुओं से घिरावट या पराजय सामने हो ऐसी विकट स्थितियों में भी विजया नामक एकादशी का व्रत रखना मात्र ही व्रती को विजय दिलाने की क्षमता रखता है।

व्रत की क्षमता

व्रत की क्षमता

प्राचीन काल में कई राजा-महाराजा विजया एकादशी के व्रत के प्रभाव से अपनी निश्चित हार को कई बार जीत में बदल चुके हैं।

प्राचीन काल

प्राचीन काल

विजया एकादशी के व्रत में भगवान विष्णु जी की पूजा करना सबसे ज्यादा फलदायी माना जाता है।

भगवान विष्णु जी

भगवान विष्णु जी

विजया एकादशी के दिन भगवान विष्णु जी की पूजा के साथ-साथ रात्रि में अपनी क्षमता अनुसार जागरण ज़रूर करना चाहिए।

जागरण

जागरण

विजया एकादशी के दिन व्रत में कभी भी चावल का सेवन नहीं करना चाहिए।

क्या न खाएँ?

क्या न खाएँ?

भगवान शिव जी की 11 रूद्र अवतारों के नाम