Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

उत्पन्ना एकादशी के व्रत के लाभ

हिंदू पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष माह की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को ही उत्पन्ना एकादशी के नाम से जाना जाता है।

ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार 9 दिसंबर 2023 शनिवार के दिन उत्पन्ना एकादशी है।

कथाओं के अनुसार उत्पन्ना एकादशी से ही सभी एकादशियों का जन्म हुआ था तथा इसी दिन से एकादशियों का व्रत रखने की शुरुआत करना बहुत ही शुभ माना जाता है।

जो मनुष्य उत्पन्ना एकादशी का उपवास करता है वह मरणोपरांत वैकुण्ठ धाम को प्राप्त होता है।

उत्पन्ना एकादशी-माहात्म्य की कथा सुनने व पढ़ने मात्र से मनुष्य को सहस्र गऊदानों के पुण्य फल की प्राप्ति होती है।

उत्पन्ना एकादशी के दिन उत्पन्ना एकादशी का उपवास करने के साथ-साथ व्रती को रात्रि जागरण कर के भगवान श्री विष्णु जी की पूजा करनी चाहिए।

जो मनुष्य उत्पन्ना एकादशी का व्रत रखने में असमर्थ हैं ऐसे मनुष्यों को दिन में सिर्फ एक ही समय फलाहार ग्रहण करना चाहिए।

उत्पन्ना एकादशी का उपवास करने से मनुष्य को दिव्य फलों की प्राप्ति होती है।

हिंदू धर्म के 4 वेदों के नाम