Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

षटतिला एकादशी के दिन क्या करें?

हिंदू पंचांग के अनुसार माघ महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि ही षटतिला एकादशी कहलाती है।

हिंदू पंचांग

ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक षटतिला एकादशी 6 फरवरी 2024 मंगलवार के दिन पर है।

ग्रेगोरियन कैलेंडर

षटतिला एकादशी के दिन तिल एवं अन्न का दान करने से मुक्ति और वैभव की प्राप्ति होती है।

तिल एवं अन्न का दान

षटतिला एकादशी के दिन मनुष्य को भगवान विष्णु जी की पूजा करनी चाहिए तथा निमित व्रत का पालन करना चाहिए।

व्रत का पालन

व्रत का पालन

षटतिला एकादशी के दिन भगवान विष्णु जी को गंध, पुष्प, धुप-दीप तथा ताम्बूल को चढ़ाकर उनका पूजन करना चाहिए।

भगवान विष्णु जी

भगवान विष्णु जी

षटतिला एकादशी वाले दिन उड़द और तिल मिश्रित खिचड़ी बनाकर भगवान विष्णु जी को इसका भोग लगाना चाहिए।

मिश्रित खिचड़ी

षटतिला एकादशी के दिन अगर संभव हो तो रात्रि के समय तिल से 108 बार "ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय" मंत्र से हवन करना चाहिए।

रात्रि के समय हवन

षटतिला एकादशी के दिन तिल का 6 रूपों में दान करना उत्तम फलदायी माना जाता है।

उत्तम फलदायी

सरसों के तेल की मालिश करने के लाभ