Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

सफला एकादशी के व्रत के लाभ

हिंदू पंचांग के अनुसार पौष माह की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि के दिन ही सफला एकादशी होती है।

हिंदू पंचांग

ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक सफला एकादशी 7 जनवरी 2024 रविवार के दिन है।

ग्रेगोरियन कैलेंडर

सफला एकादशी के व्रत में हर प्रकार के चावल का सेवन करना वर्जित माना जाता है।

चावल का सेवन

सफला एकादशी के दिन रात्रि में जागरण करने से जो फल प्राप्त होता है वह हज़ारों वर्षों की तपस्या करने से भी प्राप्त नहीं होता है।

रात्रि में जागरण

सफला एकादशी का व्रत अपने नामानुसार मनोनुकूल फल प्रदान करता है।

मनोनुकूल फल

मनोनुकूल फल

सफला एकादशी के व्रत से व्यक्ति को जीवन में उत्तम फलों की प्राप्ति होती है।

सफला एकादशी का व्रत

हिंदू शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति सफला एकादशी का व्रत रखता है वह जीवन का सुख भोग कर मृत्यु पश्चात भगवान विष्णु जी के लोक को प्राप्त होता है।

भगवान विष्णु जी के लोक

ब्रह्मवैवर्त और पद्म पुराण के अनुसार सफला एकादशी का व्रत अति ही मंगलकारी और पुण्यदायी माना जाता है।

मंगलकारी और पुण्यदायी

शिवलिंग पर जल कैसे चढ़ाना चाहिए?