Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

घर में कुल देवी/देवता कहाँ रखें?

दोस्तों आज हम आपको बताएँगे कि वास्तु शास्त्र के नियमों के अनुसार घर में कुल देवी या देवता की तस्वीर या मूर्ति कहाँ रखनी चाहिए?

वास्तु टिप्स

जैसा कि आप जानते हैं हर कुल व परिवार के अलग-अलग कुल देवी या कुल देवता होते हैं जिनकी पूजा लोग पीढ़ी दर पीढ़ी करते हैं।

कुल देवता या देवी

शादी के बाद भी नवविवाहित जोड़े को कुल देवी या देवता के दर्शन कराए जाते हैं ताकि उनका दाम्पत्य जीवन हमेशा सुखी रहे।

कुल देवी/देवता के दर्शन

कई घरों में आज भी नियमित रूप से देवी-देवता की पूजा होती है जिसके नियम आपको अवश्य ही ज़रूर पता होने चाहिए।

पूजा के नियम

वास्तु शास्त्र के नियमों के मुताबिक घर में कुल देवी या देवता की तस्वीर या मूर्ति घर के मंदिर के आस-पास अर्थात उत्तर से पूर्व दिशा में रखनी चाहिए।

कहाँ रखें?

कहाँ रखें?

अगर आपके घर में आपके पास अपने कुल देवी या देवता की कोई तस्वीर या मूर्ति नहीं है तो सुपारी पर कलावे को लपेटकर आप उसकी पूजा कर सकते हैं।

नियमित रूप से पूजा

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार कुल देवी या देवता की नियमित पूजा करने के साथ-साथ उनके नाम का भी उच्चारण रोज़ाना करना चाहिए।

रोज़ाना नाम उच्चारण

घर में कुल देवी या देवता की पूजा में घी का दीपक प्रज्वलित करना चाहिए तथा साथ ही धुप व कपूर को भी जलाना चाहिए।

दीपक जलाएँ

घर में कुल देवी या देवता की पूजा के दौरान पान में लौंग, सुपारी, इलायची और गुलकंद ज़रूर चढ़ाना चाहिए।

क्या करें अर्पित?

घर के पूजा स्थान में कुल देवी या देवता के लिए पानी से भरा एक कलश तथा उसपर स्वस्तिक का चिन्ह बनाकर ज़रूर रखना चाहिए।

कलश रखें

मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा क्यों की जाती है?