चैत्र नवरात्रि में कहाँ रखें माता की चौकी?

दोस्तों आज हम आपको बताएँगे कि चैत्र नवरात्रि के दौरान हमें अपने घर में वास्तु शास्त्र के नियमों को ध्यान में रखते हुए माता कि चौकी को कहाँ स्थापित करना चाहिए?

वैदिक पंचांग के अनुसार चैत्र नवरात्रि चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रथम तिथि से लेकर नवमी तिथि तक मनाए जाएँगे।

वैदिक पंचांग

वैदिक पंचांग

अंग्रेजी पंचांग के मुताबिक चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल 2024 मंगलवार के दिन से शुरू होकर 17 अप्रैल 2024 बुधवार के दिन पूर्ण होंगे।

अंग्रेजी पंचांग

अंग्रेजी पंचांग

वास्तु के अनुसार चैत्र नवरात्रि में घर की उत्तर-पूर्व दिशा में माता कि चौकी को स्थापित करना चाहिए।

उत्तर-पूर्व दिशा

उत्तर-पूर्व दिशा

वास्तु शास्त्र के नियमों के तहत चैत्र नवरात्रि में अगर घर की उत्तर-पूर्व दिशा उपलब्ध न हो तो पूर्व दिशा में माता की चौकी को स्थापित करना चाहिए।

पूर्व दिशा

पूर्व दिशा

वास्तु के नियमों के हिसाब से चैत्र नवरात्रि में घर की पूर्व दिशा यदि उपलब्ध न हो तो उत्तर दिशा में माता की चौकी को स्थापित करना चाहिए।

उत्तर दिशा

उत्तर दिशा

वास्तु के मुताबिक चैत्र नवरात्रि में घर की उत्तर दिशा यदि उपलब्ध न हो तो उत्तर-उत्तर-पूर्व दिशा में माता की चौकी को स्थापित करना चाहिए।

उत्तर-उत्तर-पूर्व

उत्तर-उत्तर-पूर्व

वास्तु के तहत चैत्र नवरात्रि में घर की अगर उत्तर-उत्तर-पूर्व दिशा उपलब्ध न हो तो पूर्व-उत्तर-पूर्व दिशा में माता कि चौकी को स्थापित करना चाहिए।

पूर्व-उत्तर-पूर्व

पूर्व-उत्तर-पूर्व

वास्तु के हिसाब से चैत्र नवरात्रि में घर की उत्तर से पूर्व दिशा के अलावा अन्य दिशाओं में माता की चौकी को स्थापित नहीं करना चाहिए।

गुड़ी

गुड़ी

गुड़ी पड़वा के बारे में रोचक तथ्य