Deepak Kumar Saini - B.E. (Civil) - Vastu & Geopathy Expert

ब्रह्मा, ऋषि, देव और दानव मुहूर्त क्या हैं?

ब्रह्मा, ऋषि, देव और दानव मुहूर्त हिंदू धर्म में विभिन्न कार्यों के लिए उपयुक्त मुहूर्त होते हैं जिन्हें भिन्न-भिन्न उद्देश्यों को पूर्ण करने के लिए किया जाता है।

4 मुहूर्त

4 मुहूर्त

ब्रह्मा मुहूर्त सूर्योदय से पहले का समय होता है जो लगभग डेढ़ घंटे का होता है तथा ब्रह्मा मुहूर्त में स्नान, ध्यान, प्रार्थना और साधना करना अत्यंत शुभ माना जाता है।

ब्रह्मा मुहूर्त

ब्रह्मा मुहूर्त

ऋषि मुहूर्त सूर्योदय का समय होता है जिसकी अवधि लगभग डेढ़ घंटे की होती है तथा ऋषि मुहूर्त को शिक्षा, योग और धार्मिक क्रियाओं के लिए उपयुक्त माना जाता है।

ऋषि मुहूर्त

ऋषि मुहूर्त

देव मुहूर्त सूर्योदय के बाद का समय होता है जिसकी अवधि डेढ़ घंटे की होती है तथा देव मुहूर्त में पूजा, यज्ञ, धार्मिक और सामाजिक कार्य करना शुभ होता है।

देव मुहूर्त

देव मुहूर्त

दानव मुहूर्त सुबह के 8:30 बजे के बाद समय होता है जिसमें शुभ कार्य नहीं करने चाहिए तथा दानव मुहूर्त में सिर्फ दान, पुण्यकारी कार्य और अन्य सेवा-संबंधित कार्य करने चाहिए।

दानव मुहूर्त 

दानव मुहूर्त 

ब्रह्मा, ऋषि, देव, और दानव मुहूर्तों को किसी को भी अपने दैहिक, मानसिक और आध्यात्मिक सुधार के लिए उपयोग ज़रूर करना चाहिए।

फायदे

फायदे

वास्तु के मुताबिक पीतल का सूर्य कहाँ लगाएँ?